Happiness( काम में संतोष सबसे बड़ी कमाई)

एक गरीब लड़का एक दुकान पर पहुंच कर बोला,”क्या मैं एक फोन कर सकता हूं।”दुकानदार ने अनुमति दे दी। लड़के ने नंबर डायल किया और दुकानदार उसकी बातें ध्यान से सुनने लगा।फोन एक महिला ने उठाया।लड़का बोला,’ मैडम,मैं आप के बगीचे में काम करना चाहता हूं।मुझे नौकरी मिलेगी?’ महिला बोली,’मैंने पहले ही एक लड़के को रख लिया है।’लड़का बोला,”मैडम मैं आधे वेतन पर काम कर लूंगा।” मैडम फिर बोली,मैं उस लड़के के काम से संतुष्ट हूं,उसे बदलना नहीं चाहती।

‘लड़के ने फिर निवेदन किया,’मैडम में बगीचे के अलावा और भी काम कर दूंगा।’ महिला ने यह कहकर फोन रख दिया कि उसे नए आदमी की जरूरत नहीं है। दुकानदार को नौकरी के लिए गिड़गिड़ाते लड़के पर दया आ गई।वह बोला,’मैं तुम्हें अपनी दुकान पर काम दे देता हूं।’ लड़का बोला,’भाई साहब मुझे नौकरी नहीं चाहिए।’ दरअसल इन मैडम के बगीचे में मैं ही काम करता हूं।बस यह देखना चाहता था कि वह मेरे काम से संतुष्ट है या नहीं।

सीख:

हम जो करते हैं,उसमें कुशल और संतुष्ट होना ही हमारी सबसे बड़ी कमाई होती है।

उम्मीद है आपको यह छोटी सी Story पसंद आएगी। आप अपने बच्चों को सुना के उनको अच्छी शिक्षा और संस्कार दे सकते हैं।